Monday, February 22, 2021

और अब तो...

                           

देखने में यह एक साधारण सा दृश्य है। एक बैलगाड़ी, खुला मैदान जिसकी दाहिनी तरफ़ आधा बना कमरा है और ठीक उसके पास मंदिर जैसी कोई जगह।

मगर मुझे दिख रहा....

बैलगाड़ी पर सामान लदवाते पापा और पीछे दोनों पाँव झुलाते बैलों के गले की टुनटुन के साथ-साथ सिर हिलाती कुछ दूर तक जाती मैं...

पक्की सड़क पर पहुँच कर पापा ने गोद में उठाकर उतार दिया नीचे... 

          घर जाओ...शाम को चढ़ना इस पर

वह सामने मंदिर के बाहर ढाक और ढोल की लगातार ध्वनि। बेलबरण है आज....दुर्गा माँ की जिस मूर्ति को बनते हुए बंद किवाड़ की फाँक से आँख सटाकर देखते आए थे...उस मूर्ति का आज साक्षात दर्शन होगा। 

 वो अधबना कमरा, कमरा नहीं स्टेज है..जिस पर कल से रामलीला होगी और हमलोग शाम से ही अपने-अपने बोरे बिछाकर जगह मड़िया लेंगे। 

 दुर्गा पूजा और रामनवमी के तीन दिन हमारे घर वाले हमारा चेहरा देखने को तरस जाते थे।

 यह पुराना मंदिर और स्टेज तोड़कर एक विशाल मंदिर बन गया है, जहां रामलीला नहीं होती अब।बचपन के बेशक़ीमती कई साल जिस मैदान में खेल-कूदकर गुज़ारा...उस स्थान को ऊँची चारदीवारी से घेर दिया गया है, जिसे देखकर मुझे जेल सा एहसास होता है.....और मैं घबराकर उस ओर पीठ कर लेती हूँ।

बहुत पहले से ही बैलगाड़ी नहीं रही हमारे पास.., फिर खेल का मैदान, पुराना मंदिर...

और अब तो...

पापा भी नहीं रहे...

 


7 comments:

सुशील कुमार जोशी said...

फ़िर भी कहीं आस पास होते हैं पापा और सुनाई देती हैं बैलों के गले की बजती घंटियां सी।

विश्वमोहन said...

बैलगाड़ी, खेल के मैदान, पुराना मंदिर, वो अधबना कमरा और पापा सब चढ़ के सज गए हैं स्मृतियों के उस स्टेज पर और अब भी चल रही है समय की साँकल के पार- जिंदगी की यह रामलीला!!!!

प्रतिभा सक्सेना said...

उदास मन में कई स्मृतियाँ उमड़ती हैं.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (24-02-2021) को     "नयन बहुत मतवाले हैं"  (चर्चा अंक-3987)    पर भी होगी। 
--   
मित्रों! कुछ वर्षों से ब्लॉगों का संक्रमणकाल चल रहा है। आप अन्य सामाजिक साइटों के अतिरिक्त दिल खोलकर दूसरों के ब्लॉगों पर भी अपनी टिप्पणी दीजिए। जिससे कि ब्लॉगों को जीवित रखा जा सके। चर्चा मंच का उद्देश्य उन ब्लॉगों को भी महत्व देना है जो टिप्पणियों के लिए तरसते रहते हैं क्योंकि उनका प्रसारण कहीं हो भी नहीं रहा है। ऐसे में चर्चा मंच विगत बारह वर्षों से अपने धर्म को निभा रहा है। 
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 

आलोक सिन्हा said...

बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय

Onkar said...

सुंदर प्रस्तुति।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत कुछ स्मृतियों में ही सहेजा होता है ।