Friday, April 6, 2018

नीली झील.....



नीला अम्‍बर, नीली झील
खोजती फि‍रती हूं
नीले दर्पण में
झांकती दो चंचल अंखि‍यां
उड़ रही 
यादों की बदलि‍यां
हि‍लता नहीं
झील का पानी
पार दुर्गम पहाड़ों के
नि‍कल गया कोई गांव-शहर
पहाड़, समुंदर, रेगि‍स्‍तान
जाने कहां-कहां

3 comments:

ब्लॉग बुलेटिन said...

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, होनहार विद्यार्थी की ब्रांड लॉयल्टी “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

Meena Sharma said...

सुंदर शब्दचित्र

Onkar said...

बहुत सुंदर