Saturday, January 26, 2013

गणतंत्र दिवस की बहुत-बहुत बधाई हो मित्रों......



गणतंत्र दिवस की बहुत-बहुत बधाई हो मित्रों......

उम्र हमें कुछ देता है तो हमसे हमारा बहुत कुछ छीन भी लेता है....बचपन और उसकी मस्‍ती...
गणतंत्र दि‍वस हो या स्‍वतंत्रता दि‍वस.....एकदम सुबह उठकर पहले नहाना और तैयार होकर स्‍कूल जाना.....सस्‍वर जन-गण-मन का पाठ...खेलकूद....दौड़.....प्रति‍योगि‍ता और सबसे ज्‍यादा याद आता है.....मोतीचूर के लड़डू या बूंदी साथ में नमकीन....ऐसा सुस्‍वाद लगता था जैसे पहली बार खा रहे हों.... ढेर सी टाफि‍यां और फि‍र
....सारा दि‍न मस्‍ती

इत्‍ती सी देर के लि‍ए स्‍कूल जाना और वहां से नि‍कलकर सारा दि‍न सहेलियों के साथ घूमना... बड़ा रोमांच पैदा करता था इस दि‍न के लि‍ए.....
अब तो बस बुद़धू बक्‍से के सामने बैठकर दूरदर्शन कर लि‍ए तो बहुत है.....आज के बच्‍चों में भी न वैसा उत्‍साह है न उनके स्‍कूल जाने की अनि‍वार्यता......
बहुत याद आती है उन दि‍नों की....
एक बार फि‍र से.......शुभकामनाएं...

तस्‍वीर--साभार गूगल

9 comments:

Pratibha Verma said...

बहुत सुन्दर ...गड्तंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

रविकर said...

शुभकामनायें आदरेया |
प्रभावी प्रस्तुति ||

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

देश के 64वें गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!
--
आपकी पोस्ट के लिंक की चर्चा कल रविवार (27-01-2013) के चर्चा मंच-1137 (सोन चिरैया अब कहाँ है…?) पर भी होगी!
सूचनार्थ... सादर!

Aditi Poonam said...

सच ही बहुत यद् आते हैं वे दिन
गणतंत्र दिवस की शुभ कामनाएं

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...


गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,
recent post: गुलामी का असर,,,

रचना दीक्षित said...

आपको भी गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनायें.

कविता रावत said...

वो बचपन के दिन हमें भी बहुत याद आते हैं ...गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें..

कविता रावत said...

वो बचपन के दिन हमें भी बहुत याद आते हैं ...गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें..

NEERAJ SHARMA said...

आपको भी शुभकामनायें.